Natarang Pratishthan

Natarang Pratishthan
Archive and Resource Centre for Indian Theatre

Contact Us |
Powered by: Google
|  Home  |  The Pratishthan  |  Archives  |  Documentation  |  Events  |  Catalogue  |  Natarang, the Quarterly Magazine  |  People  |
Andher Nagri, Writer: Bhartendu Harishchandr, Director: B. V. Karanth.
Image: Andher Nagri, Writer: Bhartendu Harishchandr, Director: B. V. Karanth. (NP Acc. No. 1659)

Natarang Pratishthan Documentation Catalogue

Click here to type in Hindi.
or press 'Ctrl+g' from keyboard.
  • Books (40)
    • Displaying records 1 - 5 of 40.
      | FIRST | PREVIOUS | NEXT | LAST |
    • Serial No: 1
      Title: एम. के. रैना एवं अमिताभ श्रीवास्तव, मुख्य लेखक-जगदीश चन्द्र
      Writer/Editor: कभी न छोड़े खेत
      Language: हिन्दी
      Translator/Adaptator: एम. के. रैना एवं अमिताभ श्रीवास्तव / --
      Publisher/Place: राजकमल प्रकाशन, दिल्ली
      Year: 07/06/1905
      Source/Accession No: न.प.
      Description/Notes: जगदीश चन्द्र के इसी शीर्षक से प्रकाशित उपन्यास का नाट्य-रूपांतर। 126 पृ0, राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के मुक्ताकाश-रंगमंच एवं एम. के. रैना के निर्देशन में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय नयी दिल्ली द्वारा 1984-85 में अनेक प्रस्तुतियाँ।
      Director/Actor being documented: एम. के. रैना
    • Serial No: 2
      Title: गिरीश रस्तोगी
      Writer/Editor: नाटक और रंग परिकल्पना
      Language: हिन्दी
      Publisher/Place: विश्वविद्यालय प्रकाशन, वाराणसी
      Year: 14/06/1905
      Source/Accession No: साहित्य अकादमी/भ्7712
      Description/Notes: 100 पृ0, पृ0-21ः एम.के. रैना की गणना देश के उत्कृष्ठ अभिनेताओं के रूप् में तथा रंगकर्म को नया आयाम देने के बावजूद रंगमंच अभिनेता के रूप् मे इनकी अभिनय संबंधी ऐसी विशिष्ठताएँ, शैलिया, भाव क्षमता स्ािापित हुई जिससे समकालीन हिन्दी रंगमंच में अभिनेता तथा अभिनय शैली पर संवाद किया जा सके। पृ0ः21: रैना का हिन्दी रंगमंच के श्रेष्ठ निर्देशकों में से एक होने का उल्लेख।
      Director/Actor being documented: एम. के. रैना
    • Serial No: 3
      Title: गिरीश रस्तोगी / हरिशचन्द्र अग्रवाल
      Writer/Editor: नाटक के सौ बरस
      Language: हिन्दी
      Publisher/Place: शिल्पायन, दिल्ली
      Year: 23/06/1905
      Source/Accession No: न.प. / 1728
      Description/Notes: 452पृ0, पृ0-94: अंधायुग(धर्मवीर भारती) लाल किले में एम.के.रैना की प्रस्तुति महाकव्योचित तीब्र नाटकीय गाथा सृजन की नई उष्मा तथा रचना और रंगमंच के नए क्षितिज खोलता हैं। पृ0-306(कानपुर की रंगयात्रा)ः उ.प्र. संगीत नाटक अकादमी द्वारा आयोजित कानपुर में 1982 में विश्वनाट्य दिवस पर ’हिन्दी रंगमंच और दर्शक’ विषय पर नाट्य संगोष्ठी आयोजित की गई। जिसमें एम. के. रैना जैसे मूर्धन्य रंगकला मनीषियों ने भाग लिया।
      Director/Actor being documented: एम. के. रैना
    • Serial No: 4
      Title: गिरीश रस्तोगी
      Writer/Editor: हिन्दी नाटक का आत्मसंघर्ष
      Language: हिन्दी
      Publisher/Place: लोक भारती प्रकाशन, इलाहाबाद
      Year: 24/06/1905
      Source/Accession No: साहित्य अकादमी/भ्.14804
      Description/Notes: 280 पृ0, पृ0-1ग भूमिका, 99, 246, रैना द्वारा अंधायुग नाटक की प्रस्तुति में सृजन और कला की टकराहट को महत्व देने का उल्लेख। पृ0ः99-दिल्ली के पुराने किले के खण्डहरों के बीच अंधायुग नाटक को रैना द्वारा एक नये रूप में प्रस्तुत करने का उल्लेख, पृ0-249, अप्रैल 1981 में दिल्ली के त्रिवेणी के खुले नाटक गृह मे कबिरा खड़ा बजार में नाटक की रैना द्वारा प्रस्तुति का उल्लेख। इस नाटक को खड़ी बोली में लिखा गया है परन्तु इसमें रैना ने भोजपुरी पुट देने का प्रयास किया तथा रैना के सुझाव पर ही इस नाटक का नाम ’कबीरदान’ के स्थान पर ’कबिरा खड़ा बजार मे’ रखने का उल्लेख।
      Director/Actor being documented: एम. के. रैना
    • Serial No: 5
      Title: गिरीश रस्तोगी/ धीरेन्द्र शुक्ल
      Writer/Editor: हिन्दी नाट्य परिदृश्य
      Language: हिन्दी
      Publisher/Place: प्रकाशन संस्थान, दरियागंज, दिल्ली
      Year: 26/06/1905
      Source/Accession No: दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी/ठ.136176
      Description/Notes: 208 पृ0, पृ0-40, रैना द्वारा भास के नाटकों द्वारा बोली और शैली की लयात्मक प्रयोगात्मकता का उल्लेख
      Director/Actor being documented: एम. के. रैना
    • | FIRST | PREVIOUS | NEXT | LAST |
  • Newspaper Clippings (66)
    • Displaying records 66 - 66 of 66.
      | FIRST | PREVIOUS | NEXT | LAST |
    • Serial No: 66
      Writing Form/Subject: सूचना
      Title: याद रखने लायक चरित्र हैं ’कमला और बाबा बंतू’
      Name of the Play/Event: कबिरा खड़ा बाजार में
      Newspaper Name: जनसत्ता, नई दिल्ली
      Language: हिन्दी
      Date: 29.08.2009
      Source: न.प.
      Description/Notes: लेखन-भीष्म साहनी, निर्देशन-एम.के.रैना, प्रस्तुति - प्रयोग, दिल्ली, दिनांक, समय एवं स्ािान-उ.न.। समीक्षा विजय तेन्दुलकर लिखित एवं राजिन्दर नाथ निर्देशित नाटक-कमला एवं कालिजिएट ड्रामा सोसाइटी द्वारा प्रदर्शित और सीडी सिद्धू निर्देशित नाटक बाबा बंतू पर केन्द्रित । चित्र सहित।
      Director/Actor being documented: एम॰के॰ रैना
    • | FIRST | PREVIOUS | NEXT | LAST |
  • Periodicals (119)
    • Displaying records 1 - 5 of 119.
      | FIRST | PREVIOUS | NEXT | LAST |
    • Serail No: 1
      Writing Form: साक्षात्कार
      Writer: एम. के. रैना
      Title: एम.के.रैनाः अभिनेता - निर्देशक
      Journal: अभिनय, अन्तर्देशीय नाट्य पत्र, दिल्ली
      Language: हिन्दी
      Date: 1977-78
      Source: न.प0 / 183
      Description/Notes: पृ0: 21-22: जयदेव तनेजा के साथ साक्षात्कार
      Director/Actor being documented: एम. के. रैना
    • Serail No: 2
      Writing Form: परिचर्चा
      Writer: एम. के. रैना
      Title: लोक और नागर में बुनियादी तत्व समान हैं
      Journal: रंग.प्रसंगए त्रैमासिकए दिल्ली
      Language: हिन्दी
      Date: जनवरी - जून 1999
      Volume: वष्र-2, अंक-1
      Source: न.प0
      Description/Notes: पृ0-210: रैना के अनुसार आधुनिक रंगमंच के आधार सूत्र लोककला से जुड़े हैं। लोक और नागर, ग्राम और शहर के बुनियादी तत्व समान हैं और परस्पर आदान-प्रदान की देरों संभावनाएँ हैं। परम्पराओं और लोक कला तत्वों ने रैना के परायी कुख वीरगति आदि नाट्य प्रस्तुतियों को हर स्तर पर समृद्ध किया है।
      Director/Actor being documented: एम. के. रैना
    • Serail No: 3
      Writing Form: रपट
      Writer: अजित राय
      Title: चलो फिर चलें लोक की ओर
      Journal: रंग.प्रसंगए त्रैमासिकए दिल्ली
      Language: हिन्दी
      Date: अप्रैल.जूनए 2006
      Volume: वर्ष.9 अंक.2
      Page: 78
      Source: न0 प्र0/ 2681
      Description/Notes: रंगायन का ”बहुरूपी” समारोह में देशज संस्कृतिः उत्तर आधुनिक संदर्भ . विषय पर आयोजित सेमिनार में एम.के. रैना के भी भाग लेने का उल्लेख।
      Director/Actor being documented: एम. के. रैना
    • Serail No: 4
      Writing Form: रपट
      Writer: अजित राय
      Title: भारत और एशियाई रंगमंच
      Journal: रंग.प्रसंगए त्रैमासिकए दिल्ली
      Language: हिन्दी
      Date: अप्रैल.जूनए 2006
      Volume: वर्ष.9 अंक.2
      Page: 16
      Source: न0 प्र0/ 2681
      Description/Notes: ब्रेस्ट के ’मदर कोज’ पर आधारित रैना द्वारा निर्देशित ”बहादुर माँ” की भारंगम में हुई प्रस्तुति अपना प्रभाव डालने में असफल रही। इसके पीछे पूर्वाभ्यास एवं की कमी और लम्बी अवधि मूल कारक थे।
      Director/Actor being documented: एम. के. रैना
    • Serail No: 5
      Writing Form: रपट
      Writer: अमिताभ
      Title: दो ग्रीक प्रयोग और तलघर
      Journal: दिनमान, साप्ताहिक, नयी दिल्ली
      Language: हिन्दी
      Date: 7-13 दिसम्बर 1986
      Source: न.प. / 1849
      Description/Notes: पृ0-47: दिल्ली, गोर्की का नाटक ’लोअर डेप्थ’ एम.के.रैना के निर्देशन में उल्लेखनीय प्रस्तुति की रिपोर्ट।
      Director/Actor being documented: एम. के. रैना
    • | FIRST | PREVIOUS | NEXT | LAST |
Total records found: 225